Loan Foreclosure Benefit

Loan Foreclosure Benefit: भारत में लगभग हर कोई अपने कई कामों को पूरा करने के लिए बैंक या किसी अन्य संस्था से लोन लेता है, जिसके बाद उन्हें हर महीने ईएमआई के रूप में उस बैंक या संस्था को पैसे चुकाने पड़ते हैं, जिससे उन्होंने लोन लिया है। है ये लोन अलग-अलग प्रकार के होते हैं जैसे- पर्सनल लोन, कार लोन, होम लोन आदि।

ये सभी लोन अलग-अलग अवधि के लिए दिए जाते हैं, जिसमें पर्सनल लोन और कार लोन की अवधि कम होती है, लेकिन होम लोन की अवधि सबसे लंबी होती है, जिसमें लोगों को कभी-कभी 15 से 20 साल तक ईएमआई चुकानी पड़ती है। ऐसे में कई लोग लंबे समय तक ईएमआई चुकाते-भरते परेशान हो जाते हैं।

लेकिन अब आपको ऐसी या किसी अन्य स्थिति में चिंता करने की जरूरत नहीं है क्योंकि अब आप Loan Foreclosure Benefitकी मदद ले सकते हैं। Loan Foreclosure  बैंकिंग की एक ऐसी पद्धति है जिसमें आप अपने किसी भी ऋण को उसकी परिपक्वता अवधि से पहले बंद करवा सकते हैं। तो आइये जानते हैं Loan Foreclosure  प्रक्रिया के साथ-साथ Loan Foreclosure  लाभ के बारे में।

Loan Foreclosure Benefit

Loan Foreclosure  प्रक्रिया क्या है?
अगर आप अपना कोई लोन समय से पहले बंद करना चाहते हैं तो आपको पहले उस लोन की कुछ ईएमआई चुकानी होगी, तभी आप इस सुविधा का उपयोग कर पाएंगे। अब अगर आप इस सुविधा का उपयोग करना चाहते हैं तो हमने नीचे इसकी प्रक्रिया बताई है।

*सबसे पहले आपको उस बैंक में जाना होगा जहां से आपने लोन लिया है।

*बैंक में जाने के बाद आपको वहां से Loan Foreclosure आवेदन पत्र लेना होगा।

*Loan Foreclosure आवेदन पत्र को सही ढंग से भरें और बैंक में जमा करें।

*आवेदन पत्र के साथ आपको अपना पैन कार्ड, ऋण खाता संख्या और अपने पते की प्रति भी संलग्न करनी होगी।

*फिर आपका आवेदन स्वीकार होने के बाद आपको बैंक से आपके लोन की शेष राशि का दस्तावेज मिल जाएगा. जिसमें यह डेटा होगा कि आपको अब बैंक को कितनी रकम चुकानी है।

जिसके बाद आप बची हुई रकम का भुगतान NEFT/RTGS के जरिए बैंक को कर सकते हैं. रकम चुकाने के बाद आपके लोन की ईएमआई रोक दी जाएगी, इस तरह आप अपने लोन की भारी ईएमआई के झंझट से मुक्त हो सकते हैं।

Loan Foreclosure  पर कितना शुल्क लिया जाएगा?

आप में से बहुत से लोग अभी सोच रहे होंगे कि अगर हम Loan Foreclosure  सुविधा का उपयोग करते हैं, तो हमें इसके लिए कितना भुगतान करना होगा क्योंकि अक्सर देखा गया है कि बैंक के हर काम में कुछ चार्ज लगता है। आरबीआई के नियमों के मुताबिक, अगर आपका लोन फ्लोटिंग ब्याज पर है तो समय से पहले लोन बंद करने पर आपको कोई चार्ज नहीं देना होगा।

लेकिन यदि ऋण निश्चित ब्याज पर है तो आपको Loan Foreclosure  के समय बैंक को शुल्क देना पड़ सकता है। कई बार बैंक पर्सनल लोन पर उपभोक्ता से कोई चार्ज नहीं लेते हैं और हर बैंक का फोरक्लोजर चार्ज अलग-अलग होता है। लोन लेते समय मिलने वाले लोन एग्रीमेंट में आप लोन फौजदारी के शुल्क के बारे में भी पढ़ सकते हैं।

Loan Foreclosure   के लाभ

अगर आप Loan Foreclosure करवाने की सोच रहे हैं तो नीचे इसके फायदों के बारे में पढ़ सकते हैं।

*|Loan Foreclosure का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आपको हर महीने चुकाई जाने वाली लोन ईएमआई से छुटकारा मिल जाएगा।

*इससे आपके समग्र क्रेडिट स्कोर में भी सुधार होता है, जिससे भविष्य में आपके लिए कोई भी ऋण लेना आसान हो जाता है।

*आप उस ब्याज से बच सकते हैं जो आप वर्तमान में बैंक को ऋण पर चुका रहे हैं।
इसके अलावा लोन फोरक्लोजर के कई फायदे हैं जैसे- अब आप पर बैंक को ईएमआई चुकाने का दबाव नहीं रहेगा आदि।

इन बातों का अवश्य ध्यान रखें

Loan Foreclosure करवाने के बाद निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें।

*बैंक से Loan Foreclosureप्रमाणपत्र अवश्य लें।

*लोन बंद होने के 10 से 15 दिनों के भीतर अपने जमा किए गए दस्तावेज़ बैंक से ले लें।

यह देखने के लिए अपने सभी दस्तावेज़ों को सत्यापित करना सुनिश्चित करें कि कोई ख़राब स्थिति में है या नहीं।
जब भी आप Loan Foreclosure सुविधा का इस्तेमाल करें तो आपको इन बातों पर जरूर ध्यान देना चाहिए. हमें उम्मीद है कि आपको यह लेख पसंद आया होगा इसलिए कृपया इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न – Loan Foreclosureलाभ

क्या बैंक का लोन समय से पहले बंद किया जा सकता है?
Loan Foreclosureकी सुविधा से आप किसी भी बैंक का लोन समय से पहले बंद करवा सकते हैं।

Loan Foreclosure कैसे होगी?
लोन फोरक्लोजर करवाने के लिए आपको उस बैंक की शाखा में जाना होगा जहां से आपने लोन लिया है और लोन फोरक्लोजर के लिए आवेदन करना होगा।

Flipkart Axis Bank Credit Card – पुरस्कार और बचत का आपका प्रवेश द्वार

By Bharat

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *