पैनकार्ड अपडेट

नई दिल्ली: यह लेख पैनकार्डधारकों के लिए वास्तव में महत्वपूर्ण साबित होगा, जिनकी बातचीत यहां से तेजी से जारी है। अगर आपने कंटेनमेंट कार्ड बनवाया है तो इस खबर को जरा ध्यान से पढ़िए, नहीं तो मुश्किलें आना तय है। पैनकार्ड को लेकर पब्लिक अथॉरिटी ने ऐसा स्टैंडर्ड बनाया है, जिसे जानकर आपकी हवा टाइट हो जाएगी।

वैसे भी इनोवेशन के दौर में स्किललेट कार्ड एक ऐसा रिकॉर्ड है, जिसके बिना बहुत सारा काम बीच में ही रुक जाता है। अगर आपके पास स्किलेट कार्ड नहीं है, तो सभी वित्तीय और बैंकिंग कार्य बीच-बीच में रहते हैं। इस बीच, पैनकार्ड धारकों के लिए बनाए गए मानक को जानना महत्वपूर्ण है, यदि नहीं तो समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। अगर आप नए नियमों का पालन नहीं करते हैं तो आपको जेल भी जाना पड़ सकता है।

पैनकार्ड धारकों के लिए आश्चर्यजनक दिशा-निर्देश बनाए गए हैं

पैनकार्ड बनाने वाली संस्था पर्सनल एक्सपेंस डिवीजन ने अब एक ऐसा मानक बनाया है, जिसे जानकर आप दंग रह जाएंगे। अगर आप दो स्किलेट कार्ड का इस्तेमाल कर रहे हैं तो इसे अवैध घोषित कर दिया गया है। आपको अभी पैनकार्ड छोड़ना होगा। यदि आप स्किलेट कार्ड नहीं छोड़ते हैं तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी, जिसके बाद आपको डेढ़ साल के लिए जेल जाने की व्यवस्था की गई है।

व्यवस्था के अनुसार इस गलत कदम के लिए आपको काफी समय के लिए जेल जाना होगा। बेहतर है कि आप पैनकार्ड को जल्द ही छोड़ दें। इसके लिए कहीं भी जाने की मजबूरी है। इस काम को आप नजदीकी ओपन ऑफिस कम्युनिटी में पहुंचकर शांति से पूरा कर सकते हैं, जिसके लिए आपको किसी तरह की दिक्कत नहीं होगी।

वर्तमान में आप इस तिथि तक इंटरफ़ेस कर सकते हैं

वार्षिक व्यय विभाग ने पैनकार्ड धारकों को एक मदद दी है। अब आप 30 जून 2023 तक अपने कंटेनमेंट कार्ड को आधार कार्ड से जोड़कर नि:संदेह काम पूरा कर सकते हैं। पहले यह तारीख 31 वॉक 2023 तय की गई थी। पांचवीं बार कनेक्ट करने की तारीख बढ़ाई गई है। अभी भी मानक है, अगर आपने 30 जून तक कनेक्शन पूरा नहीं किया तो आपको जुर्माने के लिए तैयार रहना चाहिए।

By विशाल यादव

मीडिया के क्षेत्र में 3 साल का अनुभव है। 2020 में छत्रपति शाहू जी महाराज फेयर यूनिवर्सिटी से पत्रकारिता की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद newschecker.in से करियर की शुरुआत करते हुए तथ्यों को लेकर वैज्ञानिक राइटर के रूप में काम किया, जहां पर 11 महीने काम करने का अनुभव मिला। इसके बाद कृष्ण विश्वविद्यालय में सामग्री राइटर के रूप में 6 महीने काम किया। इसके बाद 6 महीने का फ्रीलांस सामग्री राइट के रूप में काम करने का अनुभव प्राप्त किया। इसके बाद हिंदी समाचार बाइट ऐप को 3 महीने तक सेवा प्रदान की जाती है। अब मैं योजना अलर्ट वेबसाइट पर काम कर रहा हूं। मेरा मकसद शुद्ध, स्पष्ट और सही सामग्री लोगों तक पहुंचाना है।