Free Ration

राशन कार्ड: अगर आप भी सरकार की मुफ्त राशन तय करने के तहत गेहू और चावल खाते हैं तो काफी बड़ी जानकारी आई है। सरकार की ओर से राशन मिलने के समय में आपके राशन लेने में देरी होने पर काफी बदलाव किया गया है जिससे आपको नुकसान होगा। अभी के लिए ये नियम है कि जब जिस कार्ड होल्डर का समय मिला और कोटेदार के पास जाकर राशन ले गया, लेकिन अब ऐसा करने से नुकसान हो सकता है। सरकार की ओर से राशन वितरण के तरीके और राशन की चयन करने के समय में बदलाव किया गया है।

उत्तर प्रदेश में 15 करोड़ राशन कार्ड उपभोक्ता

सरकार के आदेश पर पहले और पहले पाओ के आधे पर राशन वितरण किया जा रहा है। यानी पहले आने वाले चावल और गेंहूं के साथ में बाजारा भी मुफ्त में दिया जाएगा। देरी होने पर कार्डधारक को सिर्फ चावल और गेंहूं ही दिया जाएगा। उत्तर प्रदेश में 15 करोड़ राशन कार्ड उपभोक्ता हैं तो इन सभी के लिए नया नियम लागू होगा। राज्य में PHH और अंत्योदय कार्ड धारक रजिस्‍टर्ड हैं। इन राशन कार्ड धारकों को सरकार की ओर से कम कीमत में राश उपलब्ध कराया जा रहा है।

13 से 24 अप्रैल तक जुड़ेंगे राशन

मौजूदा कार्ड धारकों को सरकार की ओर से मुफ्त राशन के रूप में वितरित किया जा रहा है। इसी अप्रैल में अब जाकर राशन का वितरण जुड़ गया है। शासन की नई राशन वितरण प्रणाली के तहत 13 से 24 अप्रैल तक राशन जारी रहेगा। राशन वितरण ‘पहले पहले, पहले पाओ’ के आधार पर होगा। जिसमें अंत्योदय कार्डधारकों (अंत्योदय कार्डधारकों) को 14 किलो गेहूं, 20 किलो चावल और 1 किलो बजरा दिया जाएगा। PHH वालों को 2-2 किलो गेहू-चावल और 1 किलो बजरा मिलेगा।

सरकार की ओर से राशन के वितरण के समय में भी बदलाव हुआ है अब राशन की दुकान सुबह 6 बजे से रात 9 बजे तक खुल जाएगी। इससे सभी लोग आराम से राशन ले सकते हैं। इस बदलाव के बाद गरीब लोगों को राहत मिलेगी। इसके अलावा सरकार की ओर से पहले आने वाले बजरा मिलने की भी व्यवस्था है।

By विशाल यादव

मीडिया के क्षेत्र में 3 साल का अनुभव है। 2020 में छत्रपति शाहू जी महाराज फेयर यूनिवर्सिटी से पत्रकारिता की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद newschecker.in से करियर की शुरुआत करते हुए तथ्यों को लेकर वैज्ञानिक राइटर के रूप में काम किया, जहां पर 11 महीने काम करने का अनुभव मिला। इसके बाद कृष्ण विश्वविद्यालय में सामग्री राइटर के रूप में 6 महीने काम किया। इसके बाद 6 महीने का फ्रीलांस सामग्री राइट के रूप में काम करने का अनुभव प्राप्त किया। इसके बाद हिंदी समाचार बाइट ऐप को 3 महीने तक सेवा प्रदान की जाती है। अब मैं योजना अलर्ट वेबसाइट पर काम कर रहा हूं। मेरा मकसद शुद्ध, स्पष्ट और सही सामग्री लोगों तक पहुंचाना है।