Republic Day History

गणतंत्र दिवस का इतिहास: देश की राजधानी दिल्ली में गणतंत्र दिवस की तैयारियां शुरू हो गई हैं I गणतंत्र दिवस हर साल 26 जनवरी को मनाया जाता है। जिसे अंग्रेजी में गणतंत्र दिवस कहते हैं। इसका सीधा सा मतलब है कि इस दिन संविधान सभा ने देश को गणतंत्र घोषित किया था, लेकिन प्रतिभाओं के मन में यह सवाल उठता है कि हमारे पूर्वजों ने इस खास दिन को क्यों चुना? आपको बता दें कि आज ही के दिन यानी 26 जनवरी 1929 को कांग्रेस ने अंग्रेजों की गुलामी के खिलाफ “पूर्ण स्वराज” का नारा जारी किया था।

26 जनवरी को ही क्यों लागू हुआ संविधान?

कुछ ही दिनों में 26 जनवरी आ जाएगी। देशभर में इस पर्व की तैयारियां भी शुरू हो गई हैं. ऐसे में आज हम आपको बताएंगे कि हम 26 जनवरी को ही गणतंत्र दिवस क्यों मनाते हैं I दरअसल, 26 नवंबर 1949 को संविधान सभा ने संविधान को अपनाया था। ठीक 2 महीने बाद यानी 26 जनवरी 1950 को प्रजातांत्रिक व्यवस्था से इसे अंजाम दिया गया। इसी दिन से भारत को पूर्ण गणतंत्र घोषित किया गया। इस दिन संविधान लागू होने का एक मुख्य कारण यह भी था कि इसी दिन 1930 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने भारत की स्वतंत्रता की घोषणा की थी।

जब भारत गणतंत्र बना

आप जानते ही हैं कि देश 26 जनवरी 1950 को गणतंत्र बना था, लेकिन उस समय के बारे में शायद ही आपको पता हो। 26 जनवरी, 1950 को सुबह 10 बजकर 18 मिनट पर भारत गणतंत्र बना। ठीक 6 मिनट बाद यानी 10:24 बजे डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने भारत के राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली। तब डॉ. राजेंद्र प्रसाद राष्ट्रपति के रूप में पहली बार प्रैम पर बैठकर राष्ट्रपति भवन गए। उन्होंने सबसे पहले सेना को सलामी दी और यहां उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।

By विशाल यादव

मीडिया के क्षेत्र में 3 साल का अनुभव है। 2020 में छत्रपति शाहू जी महाराज फेयर यूनिवर्सिटी से पत्रकारिता की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद newschecker.in से करियर की शुरुआत करते हुए तथ्यों को लेकर वैज्ञानिक राइटर के रूप में काम किया, जहां पर 11 महीने काम करने का अनुभव मिला। इसके बाद कृष्ण विश्वविद्यालय में सामग्री राइटर के रूप में 6 महीने काम किया। इसके बाद 6 महीने का फ्रीलांस सामग्री राइट के रूप में काम करने का अनुभव प्राप्त किया। इसके बाद हिंदी समाचार बाइट ऐप को 3 महीने तक सेवा प्रदान की जाती है। अब मैं योजना अलर्ट वेबसाइट पर काम कर रहा हूं। मेरा मकसद शुद्ध, स्पष्ट और सही सामग्री लोगों तक पहुंचाना है।